Compilation process in c language in Hindi

इस आर्टिकल में  हम Compilation process in c language in Hindi और What is a compilation in Hindi? | compilation क्या है ? के बारे में जानेंगे.  दोस्तों hindi me iT me आपका बहुत बहुत अभिनान्दन हैं. के बारे में जानेंगे.  दोस्तों hindi me iT me आपका बहुत बहुत अभिनान्दन हैं.

What is a compilation in Hindi? | compilation क्या है ?

compilation को एक example से समझते हैं. माना कोई एक व्यक्ति जो हिंदी बोलता हैं. वह व्यक्ति किसी दुसरे व्यक्ति से बात करना चाहता हैं. लेकिन उस व्यक्ति को हिंदी नहीं आती हैं. अब क्या करे बो दोनों व्यक्ति. इसका एक solution हैं  की एक तीसरा व्यक्ति हो जो दोनों language जनता हो.

उसकी प्रकार machine को ह्यूमन आपनी language को समझने के लिए compilation का use करता हैं. human code को लिखता तो अपनी language में लेकिन compiler उसे machine code में convert कर देता हैं.

combination process वह प्रक्रिया जिसमे मानव के व्दारा लिखे code को मशीन code में convert किया जाता हैं यानी combination process में source code को object code में बदला जाता हैं. code बदलने का कम एक कंपाइलर करता हैं.  C compiler किसी भी developer के source code में त्रुटियों, syntax में गलती को बताता है.

मान लो आप किसी IDE (Integrated Development Environment) का use करके C का code लिखा हैं. इस C program को execute करना चाहते हैं. इस स्थिति में executable file बनाने के लिए compilation कई phases गुजरना पड़ता है. इन सभी phases को सही से सझते हैं.

Compilation process in c language in hindi

C compilation process में input के रूप में source code लेता हैं और machine code में convert कर देता हैं. इस process को complet होने तक चार स्टेप्स से होकर गुजरना पड़ता है.

C program machine code में convert होने से पहले निम्नलिखित passes गुजरता हैं.

Compilation process in c language in Hindi

  1. Preprocessing
  2. Compiler
  3. Assembling
  4. Linking

Compilation process in c  in hindi

Preprocessor

source code वह code होता हैं जिसे इन्सान समझ सकता हैं. इस code को किसी टेक्स्ट एडिटर में लिखा जाता हैं. इस code एक्सटेंशन .C होता हैं. इस code को प्रीप्रोसेसर को input के रूप में भेजा जाता हैं. उसके बाद preprocessor इस code को expands करने के बाद कंपाइलर को पास कर दिया जाता है.

preprocessor के अंदर कुछ phases होते हैं. बो निम्नलिखित हैं.

  1. Comments Removal
  2. Macros Expansion
  3. File inclusion

1. Comments Removal

C programming में Comments का use किसी विशेष statement को other developer को समझाने के लिए किया जाता है. ये Comments c program का एक हिस्सा होती हैं. जिनको प्री-प्रोसेसर compilation process के दोरान हटा देता हैं. क्योकिं Comments का use machine code में नहीं होता हैं.

2. Macros Expansion

Micros expressions में कुछ constant values (स्थिर मान) होते हैं. जिन्हें C programming में #define का use करके use किया जाता हैं. प्री-प्रोसेसर एक इंटरमीडिएट फ़ाइल बनाता है जहाँ कुछ पूर्व-लिखित असेंबली level instructions replace हैं

3. File inclusion

C programming में प्री-प्रोसेसिंग के दौरान C program में पूर्व-लिखित code वाली अन्य file को जोड़ा जाता हैं. इसे जोड़ने के लिए #include का use किया जाता हैं. प्री-प्रोसेसिंग के दौरान include file की संपूर्ण functionalty को जोड़ दिया जाता हैं.

Compiler

वह code जो प्रीप्रोसेसर expanded किया जाता हैं उस code को कंपाइलर के पास भेज दिया जाता हैं. कंपाइलर इस code को असेंबली कोड में convert करता हैं.

Assembler

अब assembly code को असेंबलर का उपयोग करके ऑब्जेक्ट कोड में convert किया जाता हैं. असेंबलर के व्दारा एक file create होती हैं जिसका नाम source file के नाम के सामान होता हैं. object file का extension .obj हैं. जैसे source code file का नाम “hello.c” हैं तो object file का नाम “hello.obj” होगा.

Linker

C language में लिखा गया program कई library functions का use करके बना होता हैं. ये सभी library functions पहले से ही compiled होते है. तथा इस library functions हो save करते सयम .lib या .a extension के साथ करते हैं.

linker का मुख्य work library files के object code को C program में जोड़ना होता हैं. इसलिए हम कह सकते हैं लिंकर का काम C program में ऑब्जेक्ट कोड को ला और इब्रेरी फाइलों अन्य फाइलों के ऑब्जेक्ट कोड से जोड़ना होता हैं. लिंकर का output executable file होती हैं. executable file का नाम source code file के नाम जैसा ही होता हैं. लेकिन उनके extension अलग-अलग होते हैं

Compilation process in c language in hindi

आप ऊपर image में देख रहे हैं की उसमें एक hello.c का एक program हैं.

  1. step1:- हेडर फाइलों प्रीप्रोसेसिंग होती हैं. ये सभी फाइल्स  # से शिरू होती हैं.  प्री-प्रोसेसिंग के दौरान comments को प्रोसेसर की help से remove कर दिया जाता हैं. ये file hello.i के साथ एक इंटरमीडिएट  file बनाती हैं.
  2. step 2:- hello.i file compilation होता हैं. compiler सॉफ़्टवेयर hello.i file को hello.s में low-level code में बादल देता हैं.
  3. step 3:- low-level code को असेंबलर व्दारा machine code में convert कर दिया जाता हैं. इस convert code की एक new file बनती हैं. hello.obj या hello.o इस file को ऑब्जेक्ट फ़ाइल के रूप में जोड़ दिया जीता हैं.
  4. step 4:- unknown statements को define करने लिये लिंकर का use करके लाइब्रेरी फ़ाइलों को object file जोड़ा जाता हैं. उसके बाद new file बनती है जिसकी एक्सटेंशन .exe/out होती हैं. यानी की hello.exe/hello.out जिसे executable file कहते हैं.

By reference :-  https://www.javatpoint.com/compilation-process-in-c

आशा  करता हूँ Compilation process in c language in Hindi और What is a compilation in Hindi? | compilation क्या है ? आपको पसंद आई होगी. अगर आपको इससे related कोई question पूछना हैं तो आप comment करके पूछ सकते है. अगर हमारे व्दारा की जानकर अच्छी लगी हो तो आपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें. धन्यबाद

FAQ प्रश्न

प्रश्न – What is a compilation in Hindi? | compilation क्या है ?

उत्तर compilation को एक example से समझते हैं. माना कोई एक व्यक्ति जो हिंदी बोलता हैं. वह व्यक्ति किसी दुसरे व्यक्ति से बात करना चाहता हैं. लेकिन उस व्यक्ति को हिंदी नहीं आती हैं. अब क्या करे बो दोनों व्यक्ति. इसका एक solution हैं  की एक तीसरा व्यक्ति हो जो दोनों language जनता हो.

Leave a Comment