Features of C Language in Hindi | C भाषा की 16 विशेषताएं

इस आर्टिकल में  हम Features of C Language in Hindi | C भाषा की 16 विशेषताएं? के बारे में जानेंगे.  दोस्तों hindi me iT me आपका बहुत बहुत अभिनान्दन हैं.

Features of C Language in Hindi | C भाषा की विशेषताएं

C prograaming language को mother of programming भी कहा जाता हैं. C को डेनिस रिची 1972 में develop किया था. इस programming language का develop main रूप से system programming language के रूप में किया जा रहा था.

C language के Features low-level access memory, simple keywords set और clean syntax हैं. ये सभी features C को operating system और compiler development के लिए उपयुक्त हैं

Features of C Language in Hindi

programming के main Features निम्नलिखित हैं.

  1. Simple
  2. Procedural Language |प्रक्रियात्मक भाषा
  3. Fast and Efficient |तेज और कुशल
  4. Modularity | प्रतिरूपकता
  5. Statically Type | स्थिर रूप से टाइप करें
  6. General-Purpose Language | सामान्य प्रयोजन की भाषा
  7. Rich set of built-in Operators | बिल्ट-इन ऑपरेटरों का समृद्ध सेट
  8. Libraries with rich Functions | समृद्ध कार्यों वाले पुस्तकालय
  9. Middle-Level Language | मध्य स्तर की भाषा
  10. Portability | सुवाह्यता
  11. Easy to Extend | विस्तार करने में आसान
  12. Structured programming language
  13. Memory Management
  14. speed
  15. Pointer
  16. Recursion
  17. Extensible

1 – Simple:- C programming language का syntax आसन होने के साथ समझना भी बहुत आसन हैं.

2-  Procedural Language: –  procedural Language में step by step predefined instructions किये जाते हैं. C programming में किसी विशेष कार्य को करने के लिए एक से अधिक function हो सकते हैं. C programming new विचार पैदा करती हैं. एक प्रोग्रामर के अंदर.

3 – Fast and Efficient:- C programming काफी fast run होती हैं. java, पाइथन जैसी new language की तुलना में अधिक सुविधाएं प्रदान करती हैं. C एक middle-level language होने के प्रोग्रामर को कंप्यूटर हार्डवेयर direct manipulation का access दे देती हैं. लेकिन higher-level languages ऐसा नहीं कर सकती हैं. इसलिए किसी भी programming को जब सीखना शिरू किया जाता हैं तो C को पहली पसंद माना जाता है. ये language fast, statically typed languages हैं

4 – Modularity :- भविष्य में उपयोग के लिए libraries में  C का code संग्रहीत कने की अवधारणा को Modularity कहते हैं. किसी भी problem को solve करने के लिए C के पास आपनी लाइब्रेरी होती हैं

5 – Statically Type:- C के statically typed language हैं. statically typed का मतलब variable किस type का हैं उसे C में compile सयम check किया जाता हैं. इसलिए developer जब भी कोई variable आपने program में use करता हैं उसे variable का type define करना पड़ता हैं.

6 – General Purpose Language :- C programming का use system programming से लेकर editing software और विभिन्न various applications में किया जा रहा हैं.

  • operating systems:- Windows, Linux, iOS, एंड्राइड, oxs आदि
  • database:- PostgreSQL, Oracle, MySQL, MS SQL Server आदि

7 – Rich set of built-in Operators:- यह एक विविध language हैं. जिसमे built-in operators का एक समृद्ध सेट होता है जो की जटिल या सरलीकृत सी प्रोग्राम लिखने में उपयोग किया जाता है.

8 – Libraries with rich Functions:- C programming के अपनी libraries और functions होते हैं beginner को code करने में help करते हैं.

9 – Middle-Level Language:- C programming एक middle-level language हैं.

10 – Portability:- C programming language एक पोर्टेबल. क्योकिं C programming में लिखे code किसी भी machine पर या system पर run किये जा सकते हैं. 

11 – Easy to Extend:- C programming में लिखे गए code extended  किये जा सकते हैं. यानी की कोई program पहले से लिखा हैं. उसमे new features  जोड़ना हो तो आसानी से जोड़ा जा सकता हैं.

12 – Structured programming language: –  C programming language एक structured programming language हैं. इसका मतलब हैं C program को use function के आधार पर कई भागों में तोड़ सकते है. तथा function का reuse भी कर सकते हैं. इसलिए C को structured  करना और समझना काफी आसन हैं.

13 – Memory Management:-  C programming dynamic memory allocation को support करती हैं. इसमें एक free() function होता हैं जिसका use करके allocated memory को किसी भी टाइम free करा सकते हैं.

14 – Speed:-  C programming का combination और execution काफी fast हैं. 

15 – Pointer:-  C programming प्रोग्रामर को provides का feature provide करती हैं. पॉइंटर का use करके C में मेमोरी के साथ इंटरैक्ट किया जाता हैं. मेमोरी को स्ट्रक्चर करने के लिए C के कुछ फंक्शन हैं जैसे:- array

16 – Recursion:-   C developer के लिए एक Features प्रदान करती हैं. जिसे Recursion कहा जाता हैं. Recursion का मतलब function आपने अंदर आपने आप को call करता हैं. 

By reference :- https://www.simplilearn.com/tutorials/c-tutorial/features-of-c-language

आशा  करता हूँ Features of C Language in Hindi | C भाषा की 16 विशेषताएं आपको पसंद आई होगी. अगर आपको इससे related कोई question पूछना हैं तो आप comment करके पूछ सकते है. अगर हमारे व्दारा की जानकर अच्छी लगी हो तो आपने दोस्तों के साथ जरुर शेयर करें. धन्यबाद

FAQ प्रश्न

प्रश्न – Features of C Language in Hindi | C भाषा की विशेषताएं

उत्तर – C language के Features low-level access memory, simple keywords set और clean syntax हैं. ये सभी features C को operating system और compiler development के लिए उपयुक्त हैं

Leave a Comment