software engineering characteristics in hindi

आज इस पोस्ट में हम software engineering characteristics in hindi के बारे में पढ़ेंगे . तो चलिए शिरू करते है .hello दोस्तों आपका Hindi me iT में अभिनन्दन है .

जब कोई software develop किया जाता है . specific requirement के लिये तो उसके 6 characteristics होते है .

  1. Maintainability
  2. Correctness
  3. Reusability
  4. reliability
  5. Portability
  6. Efficiency

software engineering characteristics in hindi

1. Maintainability

  • जो software develop किया गया है . उसको new requirement के अनुसार उसमे change कर सके या problem deficiencies को correct कर सके.
  • जो software develop किया गया है . वह flexible होना चाहिये . अगर हम उसमे कोई change करना चाहे तो आसानी से कर सके .
  • किसी भी software को develop करने में maintenance cost 70% होती है . इसलिए maintenance जरुरी होता है .

2. Correctness

  • जो software develop किया गया जिस  requirement के लिये बनाया गया है .उनको पूरा कर रहा है की नही .
  • जब कोई software develop किया जाता है . तो जितनी भी requirement है . किसी भी user की उनको determined किया जाता है . उनको formulized कर के एक format में  requirement document में  store कर दिया जाता है .
  • software technic का use करके यह पता लगाया जाता है. की जो software बनाया गया है . उन सभी रेकुइरेमेंट को पूरा कर रहा है की नही  जिसके लिए वह बनाया गया है .

3.  Reusability

Reusability को आसान शब्दों में समझते है .

  • reusability का मतलब जो सॉफ्टवेर पहले से develop किया गया है . उसकी coding use करके other सॉफ्टवेर develop कर सकते है की नही .
  • अगर हम जो सॉफ्टवेर पहले develop किया गया है उसका reuse करके किसी complex सॉफ्टवेर को design करते है तो उसे  develop  करने में कम time लगेगा . एक नया सॉफ्टवेर develop करने में.

4. Reliability 

  1. Reliability का मतलब किसी भी सॉफ्टवेर की fail होने की कितनी probity होगी विना fail हुये कम करने की किसी भी environment में.
  2. कोई भी सॉफ्टवेर जो आपने develop किया है . वो  कम से कम fail हो अगर fail हो और  भी जाये तो उसमे  आसानी से error find करके remove कर सके . जो सॉफ्टवेर है बो high correctness होना चाहिए . ताकि वे आपनी requirement के अनुसार work कर सके .

5. Portability

अगर कोई सॉफ्टवेर किसी एक platform के लिये develop किया गया है . जैसे windows के लिए बनाया गया है . अगर वो Linux  पर work करवाना है . तो जो सॉफ्टवेर windows के लिए develop किया गया है . वो Linux पर भी run हो जाये . तो ये होती है Portability .

  • अगर हार्डवेयर भी change कर दिया जाये किसी भी सिस्टम का तो भी सॉफ्टवेर new हार्डवेयर पर भी run हो जाये .
  •  सॉफ्टवेर की configuration change की गयी है . सॉफ्टवेर इस पर भी run होना चाहिये .

computer graphics in hindi

6. Efficiency

जो सॉफ्टवेर develop किया गया है . वो सिस्टम resource है उनको effective और efficient manner में use करना चाहिए .

  • storage space and execution time का  effective use करना चाहिए.
  • लेकिन space और execution time है वो आपस में inversely proportional होते है.
  • तो सॉफ्टवेर को हम हर aspect से efficiency बनाये ये भी possible नही है .
  • आपकी requirement के आनुसार सॉफ्टवेर design होते है .click

इनको भी पढ़े 

आशा  करता हूँ आपको software engineering characteristics in hindi  समझ में गया होगा . अगर आपको इससे related कोई question पूछना है तो आप comment करके पूछ सकते है . हम आपकी comment का जबाब जरुर देंगे . अगर हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो हमे comment करके जरुर बताये और आपका हमको कोई सुझाब हो तो उसे भी जरुर बताये . दोस्तों आपसे एक request है . आप इस जानकारी को आपने दोस्तों , रेस्तेदारो के साथ जरुर शेयर करे | धन्यबाद

Leave a Comment