vector and raster scan display in computer graphics (in Hindi)

आज हम computer graphics  के tutorial में एक बहुत महत्वपूर्ण topic vector and raster scan display in computer graphics (in Hindi), What is difference between vector scan display and raster scan display in computer graphics? , advantages and disadvantages of vactor and raster  scan display और How does raster scan work ?  को अच्छे से जानेंगे . तो चलिये शुरू करते है . hello दोस्तों आपका Hindi me iT में बहुत – बहुत अभिनन्दन.

ये basically दो technic हैं जो image को display पर produce करती हैं .

  1. vector scan display
  2. Raster scan display

सबसे पहले vector scan display को समझते हैं की ये work कैसे करती हैं .

इनको भी पढ़े 

Vector scan display in hindi

Cathode ray tube

vector scan display एक ऐसी technic हैं जो help करती हैं produce   image को screen के ऊपर . ये basically दो technic हैं जो image को display पर produce करती हैं .

vector scan display को अन्य नाम से जाना जाता हैं . जैसे Random , calligraphic , struck writing display .

कैसे काम करती हैं | How to work in hindi 

  • जो beam निकलती हैं electron की CRT (Cathode ray tubes) से उसको directly strike करती हैं  screen के ऊपर उसी area पर जहाँ पर हमे वो image create करनी हैं.
  • जहाँ पर display buffer memory use की जाती हैं . जो store करती हैं display list.

what is display list 

वो सारी इनफार्मेशन इसके अंदर store होती हैं . जो भी हमको display पर point करना हैं . या line , character आदि display करनी हैं . उसकी जो भी command , इनफार्मेशन वो सभी display list में होती हैं . और जो display list हैं वह buffer memory के अंदर होती हैं.

Display Controller in hindi  

display controller interpreter करता हैं जो भी command  होती हैं . यानी की display को change करता हैं अपने हिसाब से .

display  controller beam deflection circuit की help करता हैं .जो फोस्फोर की light होती हैं जिसपर electron की beam जाती हैं . तो फोस्फोर की प्रॉपर्टी होती हैं . जो उसकी light होती वो बहुत जल्दी कम होना शुरू  हो जाती हैं . जिसकी वजह से जो भी हमने प्रिंट किया है वह धीरे – धीरे  धुंधला हो जायेगा . इसलिए ये चीज धुंधली ना दिखे इसके लिये बहुत जल्दी refresh करना होता हैं. जिसे 30 -60 time बार per सेकंड screen को रिफ्रेश करना होता है . electron beam जो होता है वह 30 -60 बार उसी point को रिफ्रेश करता हैं.

advantage 

  1. ये हमे high resolution provide करती हैं . रास्टर scan display के मुकावले .
  2. ये produce करती हैं smooth line .
  3. इसको अधिक memory की   जरूरत नही होती इन resolutionफार्मेशन को store करने के लिये क्योंकि ये पूरी screen की इनफार्मेशन store नही करती है . जहाँ जो चीज प्रिंट करनी होती हैं उसी को store करती है .और use print कर देती हैं .

disadvantage 

  1. ये केवल point , line या simple character को प्रिंट करने के काम आती हैं  .
  2. vector scan display में color की limitation हैं .  यहाँ पर हम अधिकतम चार color प्रिंट कर सकते हैं .
  3. ये चारो color इस बात पर depend करते हैं . जो electron beam हैं वह कितनी अंदर तक penetrate कर रही हैं phosphor की कोटिंग पर . उसके base पर हमको चार color मिलते हैं .

इनको भी पढ़े 

अब बार करते है raster scan display .

Raster scan display in hindi

raster scan display में जो भी image हमे display करनी होती हैं. उस 0 व् 1 की form में रिफ्रेश buffer में add कर दिया जाता हैं .

 

Video Controller

video controller  हैं  वह 0 व् 1 की coding लेता हैं और वह आगे screen को आगे पास करता हैं . और  CRT जो हैं वह beam refactor  इसको एलेक्ट्रेक signal में convert कर देता हैं . उसके बाद use प्रिंट करना होता हैं screen पर .

 frame buffer 

इसका frame buffer बहुत महत्वपूर्ण होता हैं . ये जो CRT की screen हैं . वह convert हो जाती हैं  pixel में . pixel जो होते हैं वह screen पर row एंड column के रूप में होते हैं .

video controller जो होता हैं वह रिफ्रेश buffer को पढता हैं . उसके बाद real image दिखता हैं .

video controller हैं एक – एक line को scan करता हैं. उसके बाद screen के नीचे जाता हैं . scan करता हुआ .

advantage 

  1. इसकी display pixel  में divide होती हैं.
  2. इसमें million color बना सकते हैं .
  3. अगर आप real image बनाना चाहते हैं तो raster scan display का use कर सकते हैं .

disadvantage

  1. ये हमे कम  resolution provide करती हैं . vector  scan display के मुकावले . click

इनको भी पढ़े 

आशा  करता हूँ आपको topic vector and raster scan display in computer graphics (in Hindi), What is difference between vector scan display and raster scan display in computer graphics? , advantages and disadvantages of vector and raster  scan display और How does raster scan work ?   समझ में गया होगा . अगर आपको इससे related कोई question पूछना है तो आप comment करके पूछ सकते है . हम आपकी comment का जबाब जरुर देंगे . अगर हमारे द्वारा दी गयी जानकारी अच्छी लगी हो तो हमे comment करके जरुर बताये और आपका हमको कोई सुझाब हो तो उसे भी जरुर बताये . दोस्तों आपसे एक request है . आप इस जानकारी को आपने दोस्तों , रेस्तेदारो के साथ जरुर शेयर करे | धन्यबाद

Leave a Comment